Desh Bhakti Shayari in Hindi Happy Independence Day Shayari in Hindi

Desh Bhakti Shayari in Hindi, Happy Independence Day Shayari in Hindi, top 10 desh bhakti shayari, desh bhakti shayari urdu, desh bhakti shayari 2 line,desh bhakti shayari 2023 in hindi, desh bhakti shayari attitude, kadak desh bhakti shayari, independence day shayari in hindi images

Desh Bhakti Shayari in Hindi

बस ये बात हवाओं को बताये रखना,
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना,
लहू देकर जिसकी हिफाज़त की शहीदों ने,
उस तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना।

Happy Independence Day Shayari in Hindi

छोड़ो कल की बातें,
कल की बात पुरानी,
नए दौर में लिखेंगे,
मिल कर नयी कहानी,
हम हिंदुस्तानी.

top 10 desh bhakti shayari

दिल हमारे एक हैं एक ही है हमारी जान,
हिंदुस्तान हमारा है हम हैं इसकी शान,
जान लुटा देंगे वतन पे हो जायेंगे कुर्बान,
इसलिए हम कहते हैं मेरा भारत महान।

777 Hindi Lyrics (हिंदी गाने) Read Best Lyrics In Hindi777 Hindi Captions (हिंदी कैप्शन) Read Best Captions In Hindi
Famous Authors Quotes 777 About Friendship, Life, Love777 Hindi Poetry (हिंदी कविता) Read Best Poetry In Hindi
777 Hindi Poem (हिंदी कविता) Read Best Poem In Hindi777 Hindi Paheliyan (हिंदी पहेलियाँ) Read Best Paheliyan In Hindi

desh bhakti shayari urdu

दे सलामी इस तिरंगे को,
जिस से तेरी शान है,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका,
जब तक तुझ में जान है.

desh bhakti shayari 2 line

मैं मुस्लिम हूँ, तू हिन्दू है, हैं दोनों इंसान,
ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ ले कुरान,
अपने तो दिल में है दोस्त, बस एक ही अरमान,
एक थाली में खाना खाये सारा हिन्दुस्तान।

desh bhakti shayari 2023 in hindi

एक सैनिक ने क्या खूब कहा है…
किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूँ,
मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ,
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ,
मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ।
जय हिन्द.

desh bhakti shayari in english

Jab Rishte Raakh Mein Badal Gaye,
Insaniyat Ka Dil Dahal Gaya,
Main Poochh Poochh Ke Haar Gaya,
Kyon Mera Bhaarat Badal Gaya?

desh bhakti shayari attitude

मेरा यही अंदाज ज़माने को खलता है,
कि चिराग हवा के खिलाफ क्यों जलता है,
मैं अमन पसंद हूँ,
मेरे शहर में दंगा रहने दो,
लाल और हरे में मत बांटो,
मेरी छत पर तिरंगा रहने दो।

kadak desh bhakti shayari

ये नफरत बुरी है न पालो इसे,
दिलो में खलिश है निकालो इसे,
न तेरा, न मेरा, न इसका, न उसका,
यह सब का वतन है, बचा लो इसे.

independence day shayari in hindi images

न मरो सनम बेवफा के लिए,
दो गज जमीन नहीं मिलेगी दफ़न के लिए,
मरना है तो मरो अपने वतन के लिए,
हसीना भी दुप्पटा उतार देगी कफ़न के लिए.

Spread the love
Get It OnImportant Link
Join Our Facebook PageJoin Our Facebook Group
Follow On TwitterJoin Our Email Service
Follow On Google NewsFollow On Instagram
Follow On PinterestFollow On Flickr
Join Our Telegram ChannelJoin Our YouTube Channel
Follow On LinkedinFollow On Reddit

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *